टेलीविजन पर निबंध | Essay on Television in Hindi | Television par Nibandh in Hindi

नमस्कार दोस्तों, आज के इस आर्टिकल के माध्यम से आप पढ़ेंगे टेलीविजन पर निबंध (Essay on Television in Hindi) अगर आप TV पर Hindi essay खोज रहे हैं तो यह लेख इसी विषय पर है जो आपकी मदद करेगा essay on television in Hindi writing के लिए। तो आइए शुरू करते हैं –

यह भी पढ़ें - आधुनिक युग में कंप्यूटर का महत्व (Computer Essay in Hindi)

टेलीविजन पर निबंध हिन्दी में | Essay On Television in Hindi 

टेलीविजन पर निबंध | Essay on Television in Hindi | Television par Nibandh in Hindi
Essay on Television in Hindi


प्रस्तावना

टेलीविजन (Television) एक बेहतरीन मनोरंजन तथा न्यूज देखने - सुनने का साधन है जिसमें अपने पसंदीदा कलाकारों की फिल्म, खबरें, प्रोग्राम देखे जा सकते हैं, टेलीविजन में हर क्षेत्र के लिए कुछ विशेष चैनल भी बनाए जाते हैं ताकि क्षेत्र के लोगों को अपनी क्षेत्रीय भाषाओं में प्रोग्राम देखने को मिले।

टेलीविजन जिसे संक्षिप्त में TV कहा जाता है इसमें देश - विदेशों का लाइव प्रसारण यानि आँखों देखा हाल देख व सुन पाते हैं इसलिए किसी विषय या खबरों की सही तथा सटीक जानकारी घर में ही पता चल जाती है।

टीवी में फिल्में देखने के लिए पहले सीडी/डीवीडी का अधिक उपयोग होता था लेकिन वर्तमान में सभी एंटीना वाले टीवी देखना पसंद करते हैं क्योंकि इसमें सीडी की तुलना में कई गुना अधिक प्रोग्राम्स देखे जा सकते हैं क्योंकि इसमें हर प्रकार के मनोरंजन के लिए विशेष चैनल्स उपलब्ध होते हैं जिन्हें अपने इच्छानुसार देखा जा सकता है।

पहले ब्लैक एंड व्हाइट डिस्प्ले वाले टेलीविजन देखने को मिलते थे जिनमें कुछ limitations हुआ करते थे लेकिन बढ़ती तकनीकी की वजह से इंजीनियर्स ने उन लिमिटेशन को दूर किया इस कारण हमें अब रंगीन डिस्पले वाले टीवी मिलते हैं जिनमें सर्वोत्तम गुणवत्ता वाले स्पीकर्स साउंड, Full HD डिस्प्ले और कई उपयोगी सुविधाएं (smart features) मिलते हैं।

अब तो स्मार्ट TV भी आने लगे हैं जिनमें कैमरा लगा होता है, वायरलेस कनेक्टिविटी ऑप्शंस के साथ अपने स्मार्टफोन डिवाइस को जोड़ा जा सकता है और फोन स्क्रीन को बड़े स्क्रीन पर देखा जा सकता है, अब यह कहना गलत नही होगा की टेलीविजन किनता एडवांस्ड हो चुका है हालांकि अब भी इसे और बेहतर बनाने का प्रयास लगातार जारी है।

इतिहास (History)

पहली बार टेलीविजन सेवा को सन 1936 में ब्रिटिश ब्रॉडकास्टिंग कॉरपोरेशन द्वारा शुरू किया गया टेलीविजन सेवा प्रारंभ होने के बाद इसे सन 1939 में अमेरिका में भी शुरू किया गया, टेलीविजन सेवाओं का दौर यूं ही चलता रहा टीवी कंपनी टेलीविजन का प्रोडक्शन करते गए, बीतते समय के साथ टेलीविजन पूरी दुनिया में क्रांति ला रहा था अन्य अलग-अलग देशों में भी सेवा प्रारंभ हो रही थी, कुछ साल बाद भारत में भी टेलीविजन आ गया, सन 1959 को भारत में टेलीविजन सेवा प्रारंभ की गई शुरुआती दौर में टेलीविजन सेवा दिल्ली, मुंबई जैसे बड़े महानगरों में शुरू हुई भारत में दूरदर्शन ने ही क्रांति ला दी थी इसी टीवी चैनल में पहली बार प्रसारण (Broadcasting) की शुरुआत हुई इसलिए भारत में टेलीविजन के इतिहास को दूरदर्शन से जोड़ा जाता है। 

दूरदर्शन पर न्यूज़, धारावाहिक, सीरियल, प्रोग्राम, मनोरंजन से जुड़ी प्रोग्राम टेलीकास्ट होता गया बाद में दूरदर्शन के अन्य चैनल्स भी लाए गए जो बिल्कुल फ्री है, और अब तो कई चैनल्स आ गए हैं जिन्हें डीडी फ्री डिश पर मुफ्त में देखा जाता है, फ्री में संगीत, फिल्में, विज्ञापन, समाचार, पसंदीदा टीवी शो आदि देखा जा सकता है हालांकि टीवी चैनल्स के पैड प्लान्स भी आते हैं जिनमें अतिरिक्त पॉपुलर चैनल्स के लिए पैसे देने होते हैं।

टेलीविजन के लाभ और हानि | Television Ke Labh Aur Hani in Hindi

Television मनोरंजन का बहुत अच्छा साधन है और इससे कई लाभ हुए हैं प्रसारित होने वाली प्रोग्राम से सकारात्मक प्रभाव भी देखने को मिलते हैं पर अब इसके कुछ हानियां भी देखे जा सकते हैं आइए जानें इनके बारे में –

टेलीविजन के लाभ | Television Ke Fayde | Television Ke Labh in Hindi

1. खबरों की सटीक जानकारी  

न्यूज चैनल (news channels) के माध्यम से देश विदेशों में घटित किसी भी घटनाओं का लाइव प्रसारण (live telecast) किया जाता है जो सहायता करता है खबरों का सही जानकारी प्राप्त करने में, चुनाव प्रचार के दौरान नेताओं के भाषण को लाइव देखा, सुना जा सकता है पल - पल का दृश्य आपके टेलीविजन स्क्रीन पर प्रदर्शित होता रहता है अब तो 24 घण्टे हफ्तों के सातों दिन tv पर समाचार आते हैं प्रतिदिन कुछ ना कुछ ब्रेकिंग न्यूज देखने को मिलते रहते हैं।

2. मनोरंजन

यह मनोरंजन का भी अच्छा और सस्ता माध्यम है क्योंकि फ्री चैनल्स के लिए आपको पैसे खर्च करने की आवश्यकता नहीं पड़ती यह सुविधा आपको डीडी फ्री डिश में मिलती है, मनोरंजन की लिए tv में अलग से चैनल्स आते हैं जिनमें कॉमेडी सीरियल्स, म्यूजिक और डांस शो देख सकते हैं। 

3. नई चीजों को सीखना

टेलीविजन की मदद से बहुत कुछ सीखा भी जा सकता है यदि आपको पकवान बहुत पसंद है या आप खाने के नए नए आइटम्स बनाना सीखना चाहते हैं तो टीवी इसमें आपकी मदद कर सकता है क्योंकि TV में कुकिंग से संबंधित चैनल्स भी आते हैं जिनमें बेहतरीन कुक आपको नई नई डिश बनाकर सीखते हैं, किसी पकवान या मिठाई की पूरी आवश्यक सामग्री या रेसिपी आपके साथ साझा करते हैं जिन्हें नोट करके बाद में खुद से स्वादिष्ट खाना बनाना सीख सकते हैं।

4. घर बैठे खरीददारी 

TV पर कुछ चैनल ऐसे आते हैं जिसमें प्रोडक्ट को टेलीविजन के माध्यम से बेचा जाता है इसमें मॉडल्स किसी प्रोडक्ट की विशेषताओं पर बात करते हैं, नई नई तकनीक से बनाई गई इलेक्ट्रॉनिक मशीन, फोन या घरेलू सामान जो ग्राहकों के लिए फायदेमंद हो उन्हें बेचा जाता है, टीवी चैनल्स के माध्यम से बेचे जाने वाले समान को मंगवाना बहुत आसान है TV के स्क्रीन में विक्रेता कंपनी द्वारा अपना कॉन्टैक्ट नंबर दिया होता है जिसपर कॉल करके सामान घर पर मंगवा सकते हैं और पैसे प्रोडक्ट मिलने के बाद दिया जाता है।

5. व्यापार बढ़ाने में TV का योगदान  

Television पर कई बड़ी बड़ी कंपनियां अपना विज्ञापन चलवाते हैं जो प्रोग्राम के ब्रेक टाइम में दिखाया जाता है इसके लिए कंपनी द्वारा TV channel को पैसे दिए जाते हैं जितना बड़ा चैनल होगा उसमें विज्ञापन दिखाने में उतने अधिक पैसे लगते हैं।

टेलीविजन पर विज्ञापन दिखाने से घर घर से ही लोग उनके प्रोडक्ट, कंपनी के बारे में जानते हैं बार बार विज्ञापन देखने से इंसान वही समान मार्केट से खरीदना पसंद करता है जिसका ऐड टीवी पर देखा था, इस तरह से बिजनेसमैन अपने बिजनेस आइडिया को बहुत कम समय में टीवी के माध्यम से अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचा सकता हैं।

6. प्रमोशन या प्रचार

जब कोई नई मूवी बनकर तैयार होती है तो उस मूवी के अभिनेता, अभिनेत्री कास्ट फिल्म का प्रचार करते हैं ताकि अधिक लोगों को मूवी रिलीज तारीख का पता चले इस कार्य में टेलीविजन फिल्म कास्ट की मदद करता है, आपने देखा होगा की फिल्म के प्रमोशन के लिए फिल्म के एक्टर्स दूसरे tv show पर जाते हैं जिसे जनता द्वारा खुद देखा जाता है और उस शो में वे अपने नई फिल्म की जानकारी अपने दर्शकों से साझा करते हैं। 

7. जरूरी सूचनाओं को पहुंचाना

सूचनाओं के आदान प्रदान के लिए फोन का उपयोग किया जाता है किंतु इसके लिए उस व्यक्ति का मोबाइल नंबर आपके फोन पर होना चाहिए जिस तक आप सूचना को कॉल के जरिए पहुंचाना चाहते हैं, यदि अलग अलग व्यक्ति का नंबर डायल करके सूचना पहुंचाया जाए तो इसमें बहुत अधिक समय लगेगा लेकिन टेलीविजन ने इसे सहज बना दिया है और इसके द्वारा किसी जरूरी सूचनाओं को एक साथ करोड़ों लोगों तक पहुंचाया जा सकता है इसलिए देश के अहम फैसले सरकार टीवी के माध्यम से समस्त देशवासियों तक पहुंचते हैं।

8. खेल (Gaming)

आज के मॉर्डन युग में स्मार्ट टीवी आने लगे हैं जिसे वायरलेस तरीके से फोन के साथ कनेक्ट कर सकते हैं, टीवी में गेम भी खेला जा सकता है इसके लिए मार्केट में गेमिंग कंसोल उपलब्ध है जिसे Tv से अटैच करके गेमिंग कंसोल की मदद से खेल को कंट्रोल कर सकते हैं।

टेलीविजन से हानि | Television Ki Haniyan | Television Ke Nuksan in Hindi

टीवी कार्यक्रम से भले ही लोगों का मनोरंजन होता है, अनेकों जानकारी चुटकियों में मिलती है, पल पल की अपडेट प्राप्त होता रहता है लेकिन इससे कुछ हानियां भी देखी जाती हैं जो इस प्रकार हैं –

1. स्वास्थ्य पर बुरा असर 

टीवी पर इतने मनोरंजक ढंग से कार्यक्रम प्रस्तुत किए जाते हैं कि कई घंटो तक कभी कभी तो सुबह से शाम तक tv के सामने लोग बैठे रहते हैं और बाहर घूमने भी नही निकलते, अपने मित्रों से मिलना - जुलना कम कर देते हैं और अपना ज्यादातर वक्त Television में पसंदीदा सीरियल, मूवीज देखने में लगाते हैं लंबे समय तक इसी आदत के कारण उनके स्वास्थ्य पर असर देखने को मिलता है।

घंटों bright tv screen के सामने आँखें गड़ाए बैठने से आंखों की रौशनी कम तथा नेत्र रोग हो सकता है, टीवी देखने की वजह से बाहर न निकलने पर शारीरिक गतिविधि (physical activities) रूक जाता है जो कई बीमारियों को न्योता देता है, आपको मालूम ही होगा की सूर्य की रौशनी हमारे लिए फायदेमंद होता है इसकी रौशनी से हमारे शरीर को विटामिन-डी मिलता है लेकिन यदि कोई व्यक्ति घर से बाहर ही ना निकले तो उसे विटामिन-डी के कमी से होने वाले रोगों का सामना करना पड़ता है।

2. पढ़ाई का नुकसान

छोटे स्कूली बच्चे (स्टूडेंट) भी tv में घंटों तक फेवरेट कार्टून शो देखते हैं यदि इसका सही समय निर्धारित हो तब तो ठीक है अन्यथा इससे उनके पढ़ाई का नुकसान होता है, टीवी की वजह से पढ़ाई में मन नहीं लगता, दिया गया होमवर्क टाइम पर पूरा नहीं होता क्योंकि बच्चे अपना ज्यादातर टाइम tv shows देखने में बिता देते हैं।

3. सिक्योरिटी तथा प्राइवेसी का खतरा

आजकल के स्मार्ट - टेलीविजन में आगे की ओर एचडी डिस्प्ले के ठीक ऊपर कैमरा लगा होता है जिसका उपयोग अधिकतर व्यूअर्स नहीं करते हैं यह आपके सिक्योरिटी या प्राइवेसी के लिए खतरा बन सकता है, आज के समय में ऑनलाइन हैकिंग का खतरा बना रहता है तो संभावना है की टीवी के कैमरे को भी हैक किया जा सके और व्यक्तिगत गतिविधि रिकॉर्ड किया जा सके इसलिए यदि आप tv camera का इस्तेमाल नहीं करते तो अपनी प्राइवेसी को ध्यान रखते हुए उस कैमरे पर टेप चिपका दें।

4. समय की बर्बादी

टीवी पर प्रसारित होने वाले दिलचस्प प्रोग्रामों की वजह से लोगों का ध्यान television पर ही रहता है बहुत से लोग तो अपने जरूरी काम को टीवी प्रोग्राम की वजह से कल पर टाल देते हैं इसी तरह उनका समय बीतता जाता है और दिन के 12 घण्टे बर्बाद होते जाते हैं। टीवी के अलावा टाइम को महत्वपूर्ण कार्य पूरा करने में भी लगाया जा सकता है इससे समय का सदुपयोग होगा और आपका भी फायदा होगा।

5. बच्चों के लिए अनुचित प्रोग्राम

TV में कई प्रकार के शो टेलीकास्ट किए जाते हैं जिन्हें दर्शकों द्वारा देखा और पसंद किया जाता है कई ऐसे सीरियल जिन्हें पूरे परिवार के साथ देखा जाता है लेकिन कुछ ऐसे प्रोग्राम भी टेलीकास्ट होते हैं जिन्हें फैमिली या छोटे बच्चे के साथ देखा नही जा सकता क्योंकि इससे बच्चों के मस्तिष्क में बुरा प्रभाव पड़ेगा, बच्चों को टेलीविजन के माध्यम से अच्छे और ज्ञानवर्धक दृश्य दिखाना चाहिए जिससे उन्हें कुछ सीखने को मिले इसलिए बच्चों के लिए अनुचित प्रोग्राम चैनल्स को लॉक (चाइल्ड लॉक) करने की सुविधा भी टीवी में दी जाती है।

उपसंहार –

Television घर बैठे जानकारी प्राप्त करने का बेहतरीन माध्यम है सात समुंदर पार की घटनाओं का लाइव दृश्य देखा जाता है, टेलीविजन में कई शिक्षाप्रद कहानियां मनोरंजक ढंग से प्रस्तुत किए जाते हैं जो बच्चो के ज्ञान को बढ़ता है, यदि टीवी के नुकसान पर गौर करें तो किसी भी चीज की हद से ज्यादा उपयोग नुकसानदायक साबित होता है, हमें टीवी पर अच्छे कार्यक्रम देखने चाहिए जिनसे कुछ सीखने को मिले।

टेलीविजन पर 10 लाइन | 10 Lines On Television in Hindi - 10 Lines About Television

1. टेलीविजन मनोरंजन का बहुत बढ़िया साधन है जिसमें अलग-अलग प्रकार की हंसी और गुदगुदाने वाली कार्यक्रम प्रसारित होते हैं।

2. Samachar से जुड़े रहने और हर पल की ताजा खबरों से रूबरू कराने में टेलीविजन लोगों की मदद करता है, देश विदेशों के सभी समाचार टीवी चैनल के माध्यम से घर पर ही देखे जा सकते हैं।

3. टेलीविजन पर आने वाले कार्यक्रमों से बहुत कुछ सीखा जा सकता है पकवान तथा रेसिपी, गायकी तथा नृत्य साथ ही अनेकों भाषाओं में कार्यक्रम देखे जा सकते हैं जिनसे नई भाषाएं लिखी जा सकती है।

4. नई सरकारी योजनाओं को देशवासियों तक बहुत तेज़ी से पहुंचाने में टेलीविजन नेटवर्क्स का बहुत बड़ा योगदान होता है हालांकि इस प्रकार की योजनाओं से संबंधित लेख न्यूज पेपर में भी छपते हैं।

5. इंटरटेनमेंट के लिए स्मार्ट टेलीविजन में तरह-तरह के वीडियो गेम्स खेले जा सकते हैं, अब तो TV इतना एडवांस्ड हो गया है की इसमें भी इंटरनेट चलाने की सुविधा मिल जाती है और फोन को वाईफाई के जरिए जोड़ा जा सकता है।

6. हमारे भारत देश में टेलीविजन पर प्रसारण की शुरुआत 1959 को दिल्ली में की गई थी उस वक्त जिस चैनल पर पहली बार प्रोग्राम प्रसारित किया गया वह दूरदर्शन था।

7. शुरुआत में टीवी पर ब्लैक एंड व्हाइट कार्यक्रम प्रसारित होते थे, हमारे भारत देश में पहली बार रंगीन प्रसारण (टीवी पर रंगीन चलचित्र) 1982 को मद्रास से शुरू हुआ था।

8. अलग अलग मनोरंजन के लिए अलग अलग TV channels होते हैं जैसे samachar के लिए न्यूज चैनल, इंटरटेनमेंट के लिए  सीरियल, ड्रामा, कॉमेडी संबंधित चैनल और खासकर बच्चों के लिए कार्टून चैनल्स भी आते हैं।

9. सबसे पहले टेलीविजन का आविष्कार सन् 1925 में जॉन लॉगी बेयर्ड (John Logie Baird) द्वारा किया गया था, इन्हें दूरदर्शन/TV के प्रणेता के रूप में जाना जाता है।

10. टेलीविजन विज्ञान की सुविधाजनक, सस्ती और लोकप्रिय आविष्कारों में से एक है, ब्लैक एंड व्हाइट tv से अब full HD+ डिस्प्ले के साथ प्रोग्राम्स देख, सुन सकते हैं, TV के अलग अलग कंपनियां एडवांस्ड फीचर्स के साथ tv बनाते हैं जहां पहले एक ही प्रकार के टीवी मिलते थे अब अलग अलग प्रकार में मिलते हैं जैसे। LCD, LED TV आदि। अब तो घरों के अनुसार टेबल या दीवार में फिट होने वाले Tv भी आ गए हैं।

निष्कर्ष –

दोस्तों ये थी television के बारे के hindi essay जिसमें आपने Essay on Television in Hindi के बारे में पढ़ा उम्मीद करते हैं आपको यह लेख अच्छा लगा हो, हमारी आपसे अनुरोध है की इस पोस्ट को अपने मित्रों के साथ social media platforms जैसे कि Facebook Twitter, Linkedin, Instagram etc. पर जरुर share करें। दोस्तों अगर आपको इस लेख से संबंधित किसी भी प्रकार का सवाल पूछना है तो comment करके पूछ सकते हैं। धन्यवाद!

और नया पुराने